रौशनी से नहाता हैदराबाद शहर की तस्वीर आई नासा की फोटो एल्बम ‘सिटीज एट नाइट’ में

रौशनी से नहाता हैदराबाद शहर की तस्वीर आई नासा की फोटो एल्बम ‘सिटीज एट नाइट’ में

(ISS) के अंतरिक्ष यात्रियों ने एक बेहद खूबसूरत तस्वीर सांझा की है जिस में  रात में  चाँद  सितारों की रौशनी में शहरों  की ख़ूबसूरती को बयान किया गया है इन तस्वीरों में हैदराबाद की भी तस्वीर शुमार है। इसमें शहर के आउटर रिंग रोड से बनती हुई चमकती सीमा नजर आ रही है।
ऐसा लग रहा है जैसे किसी ने पेंसिल से लकीर खींच दी हो। इस तस्वीरों को देखकर लोग हैरान रह गए है। ISS ने अपने ट्विटर हैंडल से इन तस्वीरों को साझा किया है। जिसमें काहिरा, यान्बु, बैंकॉक, और हैदराबाद शामिल हैं। इन तस्वीरों को उम्मीद से जयादा  प्रतिक्रिया मिली। नासा ने अपनी एक अल्बम सिटीज एट नाइट में दुनिया भर के 180 शहरों को अंतरिक्ष से दिखाया है. जिसमें  जगमगाते हुए हैदराबाद को भी शामिल किया गया है। 
इस तस्वीर को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन ने तब ली जब वह दक्षिण एशिया प्रायद्वीप के ऊपर 261 मील की दूरी पर परिक्रमा लगा रहा था. इस ट्वीट को हैदराबादियों ने हाथों हाथ लिया। लोगों ने अलग अलग तरह के कमेंट करके तस्वीर की तारीफ की, तो किसी ने तस्वीर के खींचे जाने का वक्त पूछा। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन अंतरिक्ष में एक विशाल प्रयोगशाला का काम करता है। जो ISS  को कई देशों के सहयोग से पूरा किया गया था। जिसमें अमेरिका और रूस के साथ ही जापान और यूरोपीय देश भी शामिल थे।
इसे बनाने में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी  जापानी अंतरिक्ष एजेंसी जाक्सा, यूरोपीय स्पेस एजेंसी और कनाडा की स्पेस एजेंसी ने अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के साथ सहयोग किया था। इसको बनाने में 15 देशों ने आर्थिक सहयोग दिया है।
ये धरती की निचली कक्षा में पृथ्वी का चक्कर लगाता है. इसे 20 नवंबर 1998 को अंतरिक्ष में पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित किया गया था।  (ISS) को अंतरिक्ष में शोध कार्यों के लिए जितना उपयोगी होने का अनुमान वैज्ञानिकों ने लगाया था, ये उससे भी ज्यादा उपयोगी साबित हो चुका है. एक-दूसरे के कट्टर विरोधी रूस और अमेरिका अगर एक साथ आते तो और  बेहतर काम कर सकते हैं, ये उसकी एक मिसाल है।