रवनीत बिट्टू बोले, बैंस बताएं कि उन्हों ने हल्के के विकास के लिए क्या किया

 रवनीत बिट्टू  बोले, बैंस बताएं कि उन्हों ने हल्के के विकास के लिए क्या किया
रवनीत बिट्टू अपने संबोधन के दौरान, साथ में पार्टी नेता

लुधियाना:- अपने चुनाव  प्रचार को आगे बढ़ाते रवनीत बिट्टू की तरफ से बैंस भाइयों के  गढ़ हलका आत्म नगर में कांग्रेसी नेता निर्मल कैड़ा और कुलवंत सिद्धू की तरफ से रखी गई मीटिंगों दौरान वोटरों को संबोधन किया गया। इस  अवसर उन्हों ने पार्टी की नतिियें घर घर पहुँचाने की अपील करते हुए चुनाव प्रचार के हर तरह की तैयारियाँ पर  विचार विमर्श भी किया। अपने संबोधन दौरान बिट्टू ने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर ने पिछले दो सालों दौरान अकाली भाजपा गठजोड के डाले हुए घाटों को पूरा कर लिया है और वोटों दौरान किये वायदों को भी वह अगले सालों दौरान ज़रूर पूरा करेंगे। बैंस पर तीखा हमला करते उन्हों ने कहा कि बैंस भाई बताएं  कि उन्हों ने अपने हलके विकास के लिए क्या किया, वोट लेने के बाद वह वोटरों के काम करने  की बजाय इधर उधर भागते रहते हैं जबकि उनको चाहिए कि वह हलके के लोगों का काम करें और उनकी द्वारा डालीं वोटों का मूल्य मोडे ।
 इस अवसर पर अपने संबोधन दौरान निर्मल कैड़ा और कुलवंत सिद्धू ने भी कहा कि बैंस के पास विरोधियों की निंदा करने के इलावा और कुछ  है भी नहीं। क्योंकि वह दूसरों पर ऊँगली उठाना जानते है लेकिन उन्हें पहले अपने गिरेबान में देखना चाहिए । उनके अपने हलके के निवासी तो नरक भरी ज़िंदगी जीने  को मजबूर  हैं और वह दूसरों मुद्दों पर चर्चा बटोरने की कोशिशों में लगे रहते हैं। बैंसों की न तो अपनी कोई सरकार है न कोई ऐसे काम, जिनके बारे में वह बता सकें और न ही इलाको के लिए अपनी ही कोई प्राप्ति हैं, जिन के बारे वह बात कर सकें। क्योंकि उन्हों ने हलके के विकास के बारे में तो कभी सोचा ही नहीं, वह तो कोई न कोई मुद्दा बनाकर बस लाइव होना जानते हैं। परंतु लाइव होने साथ शोहरत तो मिल जाती है , लेकिन  लोगों का कोई भला नहीं हो सकता। उन्हों ने कहा कि बिट्टू का हलके का लोगों के साथ अपना परिवारिक रिश्ता है और हलके लोग भी उन्हें प्यार करते हैं। जिस के चलते बिट्टू  की जीत पक्की है ।
इस अवसर पर कमलजीत सिंह कड़वल, कुलवंत सिंह सिद्धू, निर्मल कैड़ा, के.के.बावा, दलजीत सिंह भोला ग्रेवाल, ऐस.पी सागर, सोहण सिंह गोगा , युवराज सिंह सिद्धू, नीरू शर्मा, कौंसलर  परमिन्दर सोमा , रजिन्दर सिंह बाजवा, परमिन्दर लापरा , हरमीत सिंह भोला, विजय मारकंडा आदि उपस्थित हुए।