माँ श्री चिंतपूर्णी जयंती पर आप सभी शर्धालुओं को हार्दिक बधाई

माँ श्री चिंतपूर्णी जयंती पर आप सभी शर्धालुओं को हार्दिक बधाई

छिन्नमस्ता जयंती कैसे मनाई जाती है?
1. छिन्नमस्ता जयंती के शुभ दिन, भक्त देवी छिन्नमस्तिका की पूजा और आराधना
करते हैं।
2. छोटी लड़कियों की भी पूजा की जाती हैं तथा पवित्र भोजन उन्हें अर्पित किया
जाता है क्योंकि उन्हें देवी का अवतार माना जाता है।
3. मंदिरों में और पूजा स्थल पर, कीर्तन और जागरण आयोजित किए जाते हैं।
4. भक्तगण अति उत्साह और समर्पण के साथ छिन्नमस्ता पूजा करते हैं।